Sunday, 7 June 2015

राही-मन

नभ है अटा मेघों से 
हैं काली घटाएँ घनघोर 
मेघ गर्जन कर रहे 
हैं बाण सरीखे बूँद चहुँ ओर 

 उजियारा तो यूं सिमट गया 
मानो कागज अग्नि को भेंट हुआ 
रह गया अवशेष श्यामली 
स्वयं अस्तित्वहीन हुआ।

 बहते जल पर चादर धरा पर 
श्यामवर्णित हो गयी 
तिस को भेदती हर बूँद भी 
बुलबुले में बदल गयी। 

बुलबुले की चादर मनभावन 
श्याम जल को ढकने लगी 
 बना  आवरण झूठ का 
की सच्चाई  अब छुपने लगी 

राही निहारे राह को 
कि  चल पड़े मंज़िल को 
चले भी तो चले कहाँ 
लागे है वह तो भुला है मंज़िल को। 

देखता रहे आवरण को 
इक ओर  चाह यह है 
या पकड़े राह लक्ष्य की 
पर भ्रमित राही -मन है। 

भ्रमित मन एवं परिस्थितियां 
 करती किंकर्त्तव्यमूढ़ राही को 
होता अनुभव जड़ता का 
की टाले है राही  समय को। 

विकल्प अब भी हैं खुले पड़े 
कि  जोहता है बाट समय का 
हट  जाये आवरण झूठ का 
हो उजियारा सूर्य का। 

या करे उजियारा राह  को 
अपने आत्म-प्रकाश से 
और चल पड़े मंज़िल को 
आत्म-बल के जोर से। 

माना अँधियारा है क्षणिक अब 
पर चलना ही जीवन है। 


 

-पुरू 

Monday, 25 March 2013

आईना-ए -ज़िन्दगी


नकाबपोशों की दुनिया में 
हर किसी से उम्मीद बेमानी है, 
चल सके तो अकेला चल ले ए 'राही' 
इस वक़्त तो यही जिंदगानी है । 

वक़्त के थपेड़ों ने नहीं बख्शा किसी को 
अब तक के इतिहास की तो यही कहानी है, 
अगर बचा कोई ... तो लुट गया ज़माने से 
इस ज़मीं पर 'कम्बख्त' यही जिंदगानी  है ।  

उजेले-अँधेरे का खेल है ज़िन्दगी 
सदा उजियारे की चाह यहाँ पुरानी  है, 
अपना क्यूँ न ले हर वक़्त अँधेरे को क्यूंकि  
अँधेरे में और अँधेरा होना ही बेमानी है । 

अब तो होने लगी है घुटन भी उजेले से कि 
लगता है कि बेहतर ज़िन्दगी 'अँधेरी गुमनामी' है,
ये तो आईना-ए-हकीकत है मुक़र्रर ज़िन्दगी का
नहीं तो शायद ... मेरे नज़रिये में ही कोई खामी है ....  । 


-पुरू 

Saturday, 2 March 2013

मैं क्यूँ लिखता हूँ .....?

मैं क्यूँ लिखता हूँ .....?
यह एक ऐसा सवाल है जो मैंने कई बार खुद से किया है..... और भी कई सवाल हैं जिनसे मैं 
अधिकतर दो-चार होता रहता हूँ, अधिकतर अपनी साहित्यिक मित्रों के कारण..... 
जैसे कि…. शायरी क्या है ?....
जो शायर लिखे … वह है शायरी ..., फिर शायर कौन है?... कवि और शायर में क्या अंतर है?...
कवि कहें, या कहें शायर .... एक ही बात है, फर्क है तो सिर्फ और सिर्फ जुबां का... 'कवि' हिंदी 
शब्द है तो 'शायर' उर्दू जुबां का....।
अब बात शायर या कवि लिखते क्यूँ हैं?... या मैं क्यूँ लिखता हूँ ?.... मेरे अनुसार मैं इसीलिए
लिख पाता हूँ क्यूंकि मेरे मन के बहुत से जज़्बात मैं जाहिर नहीं कर पाता हूँ ... और मेरा मन 
मुझे विवश कर देता है की मैं किसी तरह इन्हें व्यक्त करूं ...  अब विचारों को व्यक्त करना ही है
तो क्यूँ न इन्हें एक दिशा दी जाये... मेरा मानना है की अधिकतर लेखक या शायर अंतर्मुखी होते
हैं.... वे इसे जाहिर करने के लिए कलम का सहारा लेते हैं ....और वे अपने जज़्बात और विचारों
को मन की कलम से कागज पर उकेरते हैं.... और जिस काव्य, शायरी, लेख या अन्य रचनाओं
का निर्माण वह करते हैं वह ज़माने के लिए महत्वपूर्ण हो या न हो, पर उनके लिए वह बेहद खास
होती है। इस समय लेखक बिना किसी बाह्य दबाव के लिखता है... और कालजयी रचना का 
निर्माण कर पाता है।
लिखने के अन्य कारण भी हो सकते हैं.... जैसे की कोई लेखक इसीलिए भी लिख सकता है जब 
उस पर मित्रों, सम्बन्धियों या किसी संपादक का दबाव हो... ऐसा बाह्य दबाव किसी लेखक को 
मजबूर जरूर करता है पर वह लेखन बेहतरीन नहीं हो सकता .....|
जैसे कि हाल ही में एक समारोह के लिए मुझे शायरी करनी पड़ी ..... उन्हें अर्ज़ कर रहा हूँ ..
 
"आपके आगमन को जज़्बा--दिल से इस्तकबाल करते हैं ,
वसंत की महफ़िल-ए -खास में आपका स्वागत करते हैं ।"

"मैं यहाँ रहूँ न रहूँ पर शायरी-ओ-शेर आबाद रहेंगे,
मुझ जैसे कई आएंगे-जायेंगे यहाँ लेकिन मेरे लफ्ज़ आपको जरुर याद रहेंगे। "


वर्त्तमान समय में लिखने का एक बड़ा कारण है-अर्थ यानि धन .... कई लेखकों ने लेखन को 
अपनी रोजी-रोटी जरिया बनाया है ... पर इतिहास गवाह है कि इन लेखकों ने अपनी तमाम ज़िन्दगी
मुफलिसी में गुजारी है,पर हाँ यह बात भी गौर करने लायक है की इन लेखकों को कभी पैसे और
प्रसिद्धि की चाह नहीं रही ..... उदहारण के रूप में मैं 'मुंशी प्रेमचंद' उर्फ़ 'नवाबराय' की पूरी ज़िन्दगी 
अभावों और मुफलिसी में बीती थी .....तिस पर भी वे संतुष्ट थे ....। वे लेखक जो काफी मशहूर हैं,
और जिनके लेख अखबार  या पत्र-पत्रिकाओं में छपते ही रहते हैं (ऐसे लेखकों को फ्रीलांसर का तमगा-
दिया गया है) या जिनकी कोई किताब बहुत प्रसिद्धि पा चुकी है या एक-आध साहित्य-सम्मान उनकी 
शोभा बढ़ा रहे हैं, अगर उनकी ज़िन्दगी पर गौर किया जाये तो तमाम लेखक अपनी समय को कोसने
लगेंगे ..... जाहिर सी बात है कि वर्त्तमान के संचार-साधनों युक्त एवं वैश्वीकरण के युग में उनके लेखन
को वैश्विक बाज़ार मिला है जो पहले एक स्वप्न के समान था, फेसबुक, ट्विटर और ब्लॉगर ने लेखकों
को पूरे विश्व में पाठक दिए हैं ...कि आज लेखन लेखक के लिए रोजी-रोटी का जरिया मात्र नहीं है बल्कि
धन और प्रसिद्धि के खुले आसमान के समान है… । 
लेखन का अन्य कारण आदत भी हो सकती है .... कई लेखक आदतन कुछ न कुछ लिखते ही रहते हैं,
उदाहरणतः वे लेखक जिनके विचार नित्य ही किसी न किसी पत्रिका में प्रकाशित होते ही रहते हैं, वे 
आदतन दो या तीन लेख लिखते हैं, ताकि कम से कम एक तो छप ही जाये। 

पर एक बात यह भी है कि सच्चा लेखक 'आत्मा का चित्रकार' होता है .... और अपने जज़्बात के फूलों से शब्दों की माला बनाना बेहद कठिन काम है .......।  


-पुरू 

Saturday, 16 February 2013

अस्ताचल-उदयाचल



क्षितिज पर होता उदयाचल 
निशि के पश्चात् देता 
उल्लास, नव उर्जा- एक नयी शक्ति।
रजनीकालीन अंधकार का वृहत अंतराल 
बीत गया है।

वृहत अंतरालिक रात्रि के अंधकार 
को दूर करते हुए 
सोखते हुए उस कालिमा को 
फैलता हुआ उजाला देता एक नया आसमां 
देता समृध्दी, उजेला-सक्षमता एवं कार्य-शक्ति का 
पाकर उजेला यह आच्छादित 
करता आह्लादित उस निम्न वर्ग को 
देता पारावार खुशियाँ जीवन की 
लगता है मानो  अस्ताचल-उदयाचल
पहलू दो हैं जीवन के।

किसी अन्य निम्न वर्ग के जीवन में 
होने वाला उदयाचल 
आशाओं में बांध जाता है, जब उठती है 
धुंध कोहरे की, धक् लेती है इस प्रकाश को 
जो देगा उल्लास समृद्धि ,
करेगा आह्लादित और प्रवाहित करेगा 
नयी उर्जा- एक नयी शक्ति।

धुंध तो है उच्च वर्ग, करती है मनमानी 
उस  हथौड़े के समान कसती है,
बेचारी कील को, जो कसना ही नहीं चाहती 
अंधकारिता का यह बड़ा अंतराल 
होता जाता है बड़ा है जैसे 
कंगली में होता आटा गीला 
प्रकाश भी बेबस धुंध के पास 
नहीं पहुँच पाता किसी तरह धरा पर।

 
मध्याह्न उपरांत अंत में किसी तरह प्रकाश 
पहुंचता है धरती पर, 
क्षणिकता की यह विकटता
की समय देता है सूचना अस्ताचल की 
हाय! बेबसी लाचारी निम्न वर्ग की 
मानो क्षणिक समय के लिए 
दिया गया खिलाना बच्चे से छीन लिया गया 
और बच्चा रोता ही रह गया।

पुनः अन्धकार की वेला दग्ध करती है 
चूस लेती है सारा सार उस आधार का 
और बना देती है हाड़-निमित्त मात्र का ।
लगता है मानो अस्ताचल उदयाचल है ही नहीं ,
है तो सिर्फ और सिर्फ परिवेष्टित अंधकार है।

दृष्टांत दोनों हैं निम्न वर्ग के 
फिर भी अंतर कितना मध्य में ,
आज अमीर समृध्दशाली है 
और गरीब की झोली ही खाली है ।



-पुरु  

Sunday, 10 February 2013

गुरु या सूर्य

निशारुपी अंधकार में सूर्य की आभा
करती उजेला इस धरा पर,
यह उजेला ही तो प्रेरक है 
कर्मठ मनु के लिए।

इसी तरह ज्ञान की आभा 
करती प्रेरित कर्मण्य-अकर्मण्य शिष्य को, 
बाध्यता नहीं है गुरु-मन में और न ही है वैमनस्य 
उसके लिए समभाव है कर्मण्य-अकर्मण्य।

सूर्य का प्रदीप्यमान होना कर्म है उसका, 
पर वह भी होजाता है बेबस जब 
होता है ग्रहण या ढक लेते हैं बादल बरसात में,
यही है कर्त्तव्यशून्यता सूर्य की।

गुरु-कर्म एक कर्त्तव्य है,
यही परिलक्षित होता है सामर्थ्य में 
कि नहीं है कोई बाध्यता परिस्थितियों की,
अतएव सबसे श्रेष्ठ गुरु है।

-पुरु